26 May 2024

aawaj uttarakhand

सच की आवाज़

66वें सीपीसी के लिए मुख्य सम्मेलन का विषय है: ‘संसदों के लिए मूल्यों और सिद्धांतों को कायम रखना

राष्ट्रमंडल संसदीय संघ (सीपीए) की कार्यकारी समिति की अकरा, घाना (अफ्रीका) में 66वें राष्ट्रमंडल संसदीय सम्मेलन (सीपीसी) में इंडिया रीजन का मजबूत प्रतिनिधित्व कर रही है उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खण्डूडी भूषण।

आपको बता दें की सीपीए कार्यकारी समिति सीपीए के नौ क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करता है जिसमे अफ्रीका, एशिया; ऑस्ट्रेलिया; ब्रिटिश द्वीप और भूमध्यसागरीय; कनाडा; कैरेबियन, अमेरिका और अटलांटिक; भारत; प्रशांत; दक्षिण – पूर्व एशिया।

66th राष्ट्रमंडल संसदीय सम्मेलन (सीपीसी) में भाग लेने उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खण्डूडी भूषण भी पहुंची है जो सीपीए इंडिया रीजन का प्रतिनिधित्व कर रही है।

ऋतु खण्डूडी भूषण ने इस दौरान विभिन्न बैठको में भाग लिया जिसमे अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रमंडल संसदीय संघ की योजना और समीक्षा पर कार्यकारी समिति और उप-समिति की बैठकों में भाग लिया।

सम्मेलन में विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूडी भूषण ने उत्तराखंड की पहचान ब्रह्मकमल पहाड़ी टोपी पहन कर सम्मेलन में प्रतिभाग किया।

उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष द्वारा अवगत किया गया है कि विश्व पटल पर उत्तराखंड की पहचान को मजबूत करने के उद्देश्य से उन्होंने ब्रह्मकमल पहाड़ी टोपी पहन कर कार्यक्रम में हिस्सा लिया, साथ ही यह टोपी सभी के आकर्षण का केंद्र भी रही।

इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खण्डूडी भूषण के साथ झांसी सांसद,सीपीए कोषाध्यक्ष अनुराग शर्मा शर्मा और असम के विधानसभा अध्यक्ष बिस्वजीत दैमारी भी इंडिया रीजन का प्रतिनिधित्व कर रहें है।

इस दौरान सीपीए अंतर्राष्ट्रीय कार्यकारी समिति के अध्यक्ष इयान लिडेल ने कहा की राष्ट्रमंडल संसदीय संघ (सीपीए) अंतर-संसदीय संवाद के लिए एक अनूठा मंच प्रदान करता है। सीपीए की सदस्यता में राष्ट्रमंडल की राष्ट्रीय, राज्य, प्रांतीय और क्षेत्रीय संसदें शामिल हैं। सदस्यता की विविध प्रकृति सीपीए को संसदीय समुदाय के भीतर एक अद्वितीय स्थिति प्रदान करती है ताकि राष्ट्रमंडल में संसदीय लोकतंत्र को मजबूत करने के तरीके पर एक व्यापक परिप्रेक्ष्य प्रदान किया जा सके और ऐसा करने के तरीके पर नए और अभिनव दृष्टिकोणों पर चर्चा की जा सके।

आपको बता दे की राष्ट्रमंडल संसदीय संघ का यह सम्मेलन 06 अक्टूबर तक चलेगा।