26 May 2024

aawaj uttarakhand

सच की आवाज़

राज्य पाठ्यचर्या की रूपरेखा दस्तावेज का माननीय शिक्षा मंत्री डॉक्टर धन सिंह रावत जी द्वारा लोकार्पण किया गया ।

सर्वप्रथम माननीय शिक्षा मंत्री जी द्वारा दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का विधिवत प्रारंभ किया गया। श्री खाली के मंत्रोच्चारण के साथ तीनों शिक्षा निदेशकोंएअपर निर्देशकों समेत समस्त अतिथियों और प्रतिभागियों ने कार्यक्रम मे किया। कार्यक्रम के प्रारंभ मे निदेशक अकादमी शोध एवं प्रशिक्षण द्वारा बुनियादी स्तर हेतु राज्य पाठ्यचर्या की रूपरेखा के मुख्य बिंदुओं पर प्रकाश डाला गया ।उनके द्वारा एससीएफ.एफ एस के निर्माण की पूरी प्रक्रिया को विस्तार पूर्वक बताया गया। इसके पश्चात माननीय मंत्री जीए निदेशक माध्यमिक शिक्षा एनिदेशक अकादमी शोध एवं प्रशिक्षण तथा निदेशक प्रारंभिक शिक्षा द्वारा संयुक्त रूप से बुनियादी स्तर हेतु राज्य पाठ्यचर्या की रूपरेखा दस्तावेज का लोकार्पण किया गया। इसी क्रम में माननीय मंत्री जी द्वारा दस्तावेज का डिजिटल लोकार्पण कर इस दस्तावेज को जन सामान्य हेतु वेबसाइट पर लॉन्च किया गया । तत्पश्यात माननीय मंत्री जी द्वारा इस दस्तावेज क्रियान्वयन हेतु निदेशक अकादमिक शोध एवं प्रशिक्षण को सौंपा गया ।
इसके पश्चात महानिदेशक विद्यालय शिक्षा द्वारा बुनियादी स्तर हेतु राज्य पाठ्यचर्या की रूपरेखा दस्तावेज के मुख्य बिंदुओं पर प्रकाश डाला गया उन्होंने कहा की राष्ट्रीय शिक्षा नीति. 2020 हमें दिशा देती है की शिक्षा में संस्कार कैसे समाहित किए जाएं बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए यह दस्तावेज अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

किसी क्रम में निदेशक प्रारंभिक शिक्षा श्री रामकृष्ण उनियाल जी ने भारतीय संस्कृति के मूल्य तत्व धर्मए अर्थ एकामए और मोक्ष पर विशेष प्रकाश डालते हुए कहा कि बच्चे की शिक्षा में इनका बहुत अधिक महत्व है और एससीएफ.एफ एस बच्चों के संपूर्ण विकास में सहायक सिद्ध होगा।

निदेशक माध्यमिक शिक्षा श्रीमती सीमा जौनसारी ने एससीएफ.एफएस के लोकार्पण पर सभी को बधाई देते हुए कहा कि इस दस्तावेज के निर्माण में 8 महीने की कड़ी मेहनत है और यह दस्तावेज बॉटम टू अप अप्रोच के आधार पर बना है । यह महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग ए स्वास्थ्य विभाग तथा शिक्षा विभाग का एक संयुक्त प्रयास है उनके द्वारा सभी का आभार प्रकट किया गया।

कार्यक्रम समन्वयक श्री रविदर्शन तोपाल ने विद्यालयी शिक्षा हेतु राज्य पाठ्यचर्या की रूपरेखा का विजन और इसके पांच महत्वपूर्ण भागों पर प्रकाश डाला गया। माननीय मंत्री जी ने अपने उदबोधन में शिक्षा विभाग को एससीएफ के लोकार्पण की बधाई देते हुए कहा कि पूरे राष्ट्र में इस दस्तावेज को तैयार कर लोकार्पित करने में उत्तराखंड राज्य प्रथम स्थान पर रहा है। इसके अतिरिक्त बाल वाटिका प्रारंभ करने में भी उत्तराखंड ने अपना स्थान बनाये रखा है। क्योंकि बच्चों का 85ः विकास 6 वर्ष की आयु तक हो जाता है इसलिए बुनियादी शिक्षा को गुणवत्तापूर्ण होना अति आवश्यक है। यद्यपि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के पूर्ण कल्याण में कुछ समय लगेगा लेकिन यह आवश्यक है कि सभी आंगनबाड़ियों को विद्यालयों से जोड़ दिया जाए ।

माननीय मंत्री जी द्वारा समस्त डाइट प्रतिनिधियों को निर्देश दिए गए की प्रत्येक जनपद में हमारी विरासत पुस्तक डाइट के माध्यम से प्रकाशित की जानी हैए इसके लिए समाज के लोगों से सहयोग लिया जाए। साहित्यकारों को बुलाया जाए एबच्चों से भी संवाद किया जाए ए महिला मंगल दल और अभिभावकों को बुलाकर उनके विचार लिए जाए और तब क्षेत्र विशेष पर आधारित यह दस्तावेज जनपद द्वारा निर्मित किया जाए। माननीय मंत्री जी द्वारा आह्वान किया गया कि हम सभी के लिए यह विचारणीय बिंदु है कि अपने राज्य में हम किस प्रकार शिक्षा को और बेहतर बना सकते हैं । इस अवसर पर विद्यालय शिक्षा हेतु राज्य पाठ्यचर्या की रूपरेखा निर्माण कार्यशाला का शुभारंभ माननीय मंत्री जी द्वारा किया गया मार्गदर्शन हेतु गेस्ट स्पीकर के रूप में फिलासफी ऑफ़ एजूकेशन पर श्री प्रदीप रावतएमुख्य शिक्षा अधिकारी देहरादून तथा भारतीय ज्ञान पद्धति पर डॉक्टर कृष्ण झरे ह्यूमैनिटी एंड सोशल साइंस पर अपने व्याख्यान प्रस्तुत किये। भारतीय भाषा उत्सव के समापन अवसर पर भी उन्होंने सबको बधाई दी उन्होंने कहा कि हमारे देश में विभिन्न भाषाएं हैं किंतु उनके भाव एक ही है कार्यक्रम के समापन सत्र में संयुक्त निदेशक एनसीईआरटी श्रीमती कंचन देवरानी द्वारा सभी आगंतुकों प्रतिभागियों का धन्यवाद ज्ञापन किया गया।