26 May 2024

aawaj uttarakhand

सच की आवाज़

विधानसभा कोटद्वार के मोटाढाक में पशुपालन विभाग,पौड़ी गढ़वाल द्वारा कोटद्वार में विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को अनुदान एवम् पशुधन वितरण कार्यक्रम का किया गया आयोजन।

जिसमे विभागीय मंत्री सौरभ बहुगुणा और स्थानीय विधायक विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खण्डूडी भूषण ने प्रतिभाग किया।
इस दौरान कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा और विधानसभा अध्यक्ष ने कोटद्वार में विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को अनुदान के चेक वितरित किए।


कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष ने मंत्री के समक्ष विभिन्न प्रकार की मांगों को रखा जिसपर कैबिनेट मंत्री ने विधानसभा अध्यक्ष द्वारा रखी गई सभी मांगों को स्वीकृत करने की घोषणा की।
जिसके लिए विधानसभा अध्यक्ष ने समस्त कोटद्वार वासियों को तरफ से मंत्री का आभार और धन्यवाद व्यक्त किया।

विधानसभा अध्यक्ष द्वारा की गई मांगों को मंत्री जी ने पूर्ण करने की घोषणा की।
पशुपालन विभाग:

1. राजकीय पशु चिकित्सालय कलालघाटी कोटद्वार का उच्चीकरण, शल्य चिकित्सा कक्ष का निर्माण।

2. राजकीय कुक्कड़ प्रक्षेत्र कोटद्वार (पशुपालन विभाग) में नवीन हैचरी भवन का निर्माण चाहर दीवारी निर्माण एवं पुराने भवन का जीर्णोद्धार ।

3. सनेह क्षेत्र में पंचायत भवन में संचालित पशु सेवा केन्द्र हेतु नवीन पशु सेवा केन्द्र का निर्माण।

4. सिगड्डी स्थित राजकीय पशु सेवा केन्द्र जो वर्तमान में रा०चिकित्सालय में संचालित हो रहा है, को पूर्ण रूप से पशु चिकित्सालय में परिवर्तित किया जाना। 5. पशु संगरोधक केन्द्र एवं प्रमाणीकरण सेवा (Quarantine Centre) का निर्माण ।

6. कोटद्वार स्थित पशु चिकित्सालय में विभागीय आवास की मरम्मत / नव निर्माण ।

डेयरी विकास विभागः

7. खुन्नीबगड़ कोटद्वार में संचालित दुग्धअवशीतन केन्द्र में दुग्ध एवं दुग्ध पदार्थों के निर्माण हेतु आवश्यक प्लान्ट / मशीनरी एवं सिविल कार्य कराये जाने की स्वीकृति / धनावंटन |

राजकीय प्रशिक्षण संस्थान:

8. राजकीय प्रशिक्षण संस्थान (आई०टी०आई०) बलभद्रपुर, कोटद्वार स्थित भवन के प्रथम तल में 04 कक्षा-कक्षों का निर्माण।

कौशल विकास:

9. कौशल विकास के अन्तर्गत संचालित रोजगारपरक विभिन्न योजना / कार्यक्रम में कोटद्वार विधान सभा क्षेत्र की महिला एवं युवाओं को प्रशिक्षण की व्यवस्था ।

मत्स्य पालन विभागः

10. विधान सभा क्षेत्र कोटद्वार के अन्तर्गत विभिन्न क्षेत्रों में सामुहिक मत्स्य फार्मिंग आधारित योजनाओं को बढावा दिया जाना।